माघ

जब सुबहें ओस की बूंदों सी कोमल होती हैं

दिन सरसों से महकते हैं

और बदन से लिपटी रहती हैं खनकती दुपहरें

गन्‍ने की मिठास छलकती है शामों में

तो उम्‍मीदों की अप्‍सराएं उतर आती हैं

खेतों में,

माघ की रातों में.

जवां बालियों के बोझ से झुकी सरसों

फागुन से ठीक पहले माघ या माह के महीने में घर-खेत में होना अल्‍हदा अनुभव है. गूंगे के गुड़ जैसा! यही वह मौसम है जब उम्‍मीदों की परियां खेतों में नाचती हैं और हवाओं में सपनीली हीर सुनाई देती है. उत्‍तर भारत विशेषकर थार में यह खेतों के जवां होने के दिन हैं. फसलों की मस्‍ती किसानों की आंखों में तिरती दिखती है. होली से पहले उड़ते गुलाल की खुश्‍बू सहज ही महसूस किया जा सकता है.

खेत इस समय एक साथ पकाव पर आती कई फसलों से भरे हैं, एक तरफ सरसों, बालियों के बोझ से दोहरी हुई जा रही हैं तो गेहूं (कणक) की फसल किशोरवय से जवानी की दहलीज पर कदम रखने वाली है. चने की कुट्टी के दिन थोड़े से हैं, फिर होळे होंगे. सरसों के पीले, सोगरे के सफेद तथा चने के गुलाबी से रंग वाले फूल आसपास ही बतियाते सुने जाते हैं. लहसुन, प्‍याज, गाजर, शकरकंद, मटर जैसी कितनी ही सब्जियां थाली का स्‍वाद और विविधता बढ़ाने को तैयार हैं. बहुत कम ही महीनों में खेतों में इतने रंग, इतनी विविधता नज़र आती है. इसीलिए इस समय को खेतों के जवां होने का महीना कहा जाता है.

चने के खिलखिलाते खेत

ऐसे में अगर मावठ हो जाये तो सोने पे सुहागा. जैसा कि थार के ज्‍यादातर इलाके में हाल ही में हुआ है. माघ माह में होने वाली बारिश को मावठ कहा जाता है और यह हाड़ी (रबी) की फसलों के लिए अमृत है. मावठ के बाद हल्‍की हल्‍की धुंध के बोसे गेहूं, सरसों के अनगढ़ सौंदर्य को नया आकार देते हैं. ऐसा होते हुए इन दिनों दिखा है.

खेतों की ज्‍यादातर प्रेम कहानियां इन्‍हीं दिनों गन्‍ने के खेतों में परवान चढ़कर सरसों के पुराने पत्‍तों की तरह अपना अस्तित्‍व खो देती हैं. वे प्रेम की अगली फसलों के लिए खाद का काम करती हैं. इस मौसम के मस्‍ताए ऊंट सी गंधाती तमन्‍नाओं से बचना मुश्किल है.

यही मौसम है जिसे किसान चौ‍बीसों घंटे जीता है पूरी शिद्दत के साथ! उसके जीवन में खाने पीने से लेकर, ओढ़ने सोने तक इस मौसम का असर है. किसान जीवन इससे पग गया है.

आजकल हर प्रार्थना में यही इल्तिजा रहती है कि इतने सपने दिये हैं तो अमली जामा भी पहना देना. किसान के लिए अगले दो महीने मेहनत भरी मद में जीने के होने होंगे.

(माघ, 2010- थार एक रपट)